मामूली से दिखने वाले जूतों में छिपी होती है आपका नसीब, इन बातों का रखे विशेष ध्यान

0

आज कल की जीवनशैली में अधिकतर लोग फैशनेबल चीजें पहनना पसंद करते हैं। बोलते हैं किसी भी व्यक्ति का पहला इंप्रेशन उसके कपड़े और जूतों से होता है। इसके अतिरिक्त उसके रहने सहने का तरीका व्यक्तितत्व को दिखता है। आप शायद जानते नहीं होंगे कि हमारी जिंदगी की ये छोटी- छोटी चीजें हमारे ग्रह और नक्षत्रों पर असर डालती है। आज हम आपको जूतों से सबंधित कुछ बातों के बारे में बता रहे हैं, जिसका असर आपकी जिंदगी पर पड़ता है। ज्योतिष शास्त्रों के मुताबिक, मनुष्य की कुंडली में आठवां भाव पैरों से सबंधित होता है। जूते आठवें भाव को अहमियत देते हैं।

1- यदि कोई मनुष्य फटे पुराने जूते पहनकर रोजगार या नौकरी की खोज में जाता है तो उसे कामयाबी हासिल नहीं होती हैं।

2- ज्योतिष विद्या के मुताबिक, किसी को भेंट में जूते देने और लेने नहीं चाहिए। इन जूतों को पहनने से शनिदेव आपके काम में समस्यां उतपन्न करते हैं। आपको कार्यक्षेत्र में असफलता प्राप्त होती है।

3- कई बार मंदिर और धार्मिक स्थल पर जूते या चप्पल चोरी हो जाते हैं। ऐसा करने वाले ख्याल रखें कि चोरी के जूते तथा चप्पल पहनने से सेहत और धन में हानि हो सकती है।

4- वास्तु के मुताबिक, जूते और चप्पलों को दक्षिण, दक्षिण- पश्चिम, उत्तर-पश्चिम, पश्चिम दिशा में रखना शुभ माना गया है। इन दिशाओं में शू रैक रखें। घर के प्रवेश द्वार के सामने तथा सीढ़ियों के कोने में शू- रैक रखना अशुभ माना गया है।

5- वास्तु शास्त्र के मुताबिक, घर के इधर -उधर कोने में जूते और मौजे फेंकना शुभ नहीं होता है। इससे आपको जिंदगी में कामयाबी नहीं प्राप्त होगी। साथ ही धन और वैभव भी कम होता है।

6- पीले रंग के जूते पहनने की सख्त मनाई है क्योंकि पीला रंग भगवान बृहस्पति का रंग है। हिंदू धर्म में पीले रंग को बेहद शुभ माना गया है। पीले रंग के जूते और सोने की पायल पहनने से घर में दरिद्रता आती है।

7- ज्योतिषों के मुताबिक, शरीर का निचला स्थान शनि का होता है। जिन लोगों की राशि में शनि तथा राहु मुख्य रूप से प्रभावी होते हैं उन्हें जूतों के कारोबार में तरक्की प्राप्त होती है। इसलिए पैर में काले, नीले तथा भूरे रंग के जूते पहनना शुभ माना गया है।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.