वास्तु शास्त्र टिप्स: अगर करेंगे यह तीन गलतियां तो कभी नहीं टिकेगा पैसा

0
vastu-shastra

हर इन्सान चाहता है कि उसकी जिन्दगी सुख पूर्वक बीते। घर में पैसे की कोई कमी न हो। खूब सारा पैसा आये और इसके लिया वह खूब मेहनत भी करता है, लेकिन कभी-कभी ऐसा होता है कि व्यक्ति मेहनत तो खूब करता है लेकिन परिस्थितियां उसका साथ नहीं देती और वह पैसे के लिए काफी परेशान हो जाता है। तमाम प्रयासों के बाद भी व्यक्ति की आर्थिक समस्याएं हल नहीं होती। घर में हमेशा पैसे की तंगी बनी रहती है। हालात ऐसे बने रहते हैं कि धन कम आता है और खर्च बढ़ा होता है। कभी-कभी इसका कारण वास्तुदोष होता है, जिस पर हम ध्यान नहीं देते। जब मेहनत के बाद भी आर्थिक समस्याएं न हल हो रही हो तो एक बार वास्तु दोष की तरफ भी ध्यान दे लेना चाहिए। वास्तु के कुछ ऐसे उपाय है जिन्हें करके धन संबंधी समस्याओं से राहत पाई जा सकती है।

 

  • वास्तुशास्त्र के मुताबिक पैसा हमेशा सही दिशा में रखना चाहिए। अगर आपकी तिजोरी या फिर अलमारी गलत दिशा में रखी है तो धन कभी नहीं टिकेगा। ऐसे में अलमारी या फिर तिजोरी जहां भी आप धन रखते हो उसकी दिशा सही होनी चाहिए। पैसे रखने की अलमारी को इस तरह से रखना चाहिए कि उसका मुख उत्तर दिशा की ओर खुले। उतर दिशा को भगवान कुबेर की भी दिशा मानी जाती है और यह दिशा वास्तु शास्त्र में भी धन संचय केलिए शुभ मानी जाती है।
  • घर में पानी का टपकना भी धन के लिए अशुभ माना जाता है। कहा जाता है कि जिस घर में नल से हमेशा पानी टपकता रहता है वहां भी धन नहीं टिकता। माना जाता है कि जैसे पानी बह रहा है वैसे ही पानी के साथ घर का पैसा भी बहता चला जाता जाता इसलिए हमेशा नल बंद रखना चाहिए। नल में अगर कोई खराबी है जिससे पानी टपक रहा है तो उसे तुरंत बनवा लेना चाहिए।
  • जो लोग घर में टूटा शीशा या फिर कबाड़ रखते हैं उनके यहां भी धन नहीं टिकता। कबाड़ और टूटा शीशा निगेटिविटी बढ़ाता है, जिसके कारण धन के साथ और भी कई समस्याएं आती है इसलिए घर में टूटी चीज नहीं रखनी चाहिए। साथ ही घर की छत पर कभी भी कूड़ा नहीं इकट्ठा रखना चाहिए, इससे भी घर में वास्तुदोष बना रहता है और तमाम आर्थिक समस्याएं आती है।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.