इन पांच पौधों को कहा जाता है पैसों का पेड़, घर में बनी रहती है सुख-समृद्धि

0
vastu plants for money

Vastu Plants For Money: लोग अपने घरों को सुंदर बनाने के लिए पेड़ पौधे, प्लांट लगाते हैं. जिससे घर सुंदर दिखे. कुछ लोग घरों के बाहर पौधे लगाना पसंद करते हैं तो कुछ लोग घरों के अंदर भी पौधे लगाते हैं. जिससे चारों तरफ हरियाली नजर आती है. बाजारों में इन्डोर व आउट डोर दो तरह के पौधे मिलते हैं. मगर कुछ ऐसे भी पौधे हैं जिनका जिक्र वास्तु शास्त्र में भी किया गया है और उन्हें पैसों का पेड़ भी कहा जाता है. इन पौधों को धन, समृद्धि व आर्थिक संपन्नता से जोड़कर देखा जाता है. आज की इस रिपोर्ट में हम आपको ऐसे ही पौधों के बारे में बताएंगे जिन्हें घर में लगाने से खुशहाली आती है. तो आइए जानते हैं ऐसे पांच पौधों के बारे में.

मनी प्लांट (Money Plant)
अधिकतर घरों में मनी प्लांट लगा होता है. ये पौधा देखने में भी खूबसूरत होता है और इसे ना सिर्फ घर के भीतर बल्कि घर के बाहर भी लगाया जा सकता है.money-plant-Vastuमनी प्लांट को आर्थिक संपन्नता से जोड़कर देखा जाता है. ऐसा माना जाता है कि, मनी प्लांट लगाने से घर में कभी पैसों की कमी नहीं होती और सुख-समृद्धि बनी रहती है.

शमी का पेड़ (Shami Ka Ped)
शमी के पेड़ को वास्तु शास्त्र में काफी अच्छा माना गया है. इस पेड़ का महत्व ज्योतिष शास्त्र में भी होता है. इस पेड़ का फूल भगवान शिव का प्रिय होता है.shami ka ped for vastuमान्यता है कि शमी के फूल शिवजी को अर्पित करने से घर-परिवार में सुख-समृद्धि आती है. इसलिए इस पौधे को पैसों का पेड़ भी कहा गया है.

मनी ट्री (Money Tree)
वास्तु में मनी ट्री का बेहद खास महत्व है. वैसे तो ये एक अमेरिकन पौधा हैMoney Tree for Vastuलेकिन भारत में भी कुछ लोग इसे अपने घरों में लगाते हैं. ये पौधा नर्सरी में भी मिल जाता है.

अश्वगंधा (Ashwagandha Tree)
वास्तु शास्त्र में अश्वगंधा के पौधे को बेहद ही लाभकारी माना जाता है और इसका इस्तेमाल औषधि के रूप में भी किया जाता है.ashwagandha tree for vastuइससे दवाईयां भी बनती हैं और कई फायदे होते हैं. इसके साथ ही सुख-समृद्धि लाता है.

श्वेतार्क (Shwetark Tree)
आम भाषा में श्वेतार्क को दूध का पौधा के नाम से जाना जाता है. ये पौधा सौभाग्य की पहचान है. मगर जिस भी पौधेshwetark tree for Vastuसे सफेद पदार्थ निकलता है उसे घर के भीतर कभी लगाना नहीं चाहिए. इसलिए आप इसे पौधे को बालकनी या छत पर लगाएं.

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.