इन चीजों को जमीन पर रखना होता है अपशगुन, जीवन में आ सकती हैं बाधाएं

0
Vastu Shastra

वास्तु शास्त्र में ऐसी कई चीजों के बारे में बताया गया है जिनको आजमाकर आप अपने जीवन में सुख समृद्धि ला सकते हैं। वास्तु शास्त्र में नौकरी, बिजनेस से लेकर पूजा-पाठ की चीजों के बारे में पूरी जानकारी दी गई है। वास्तु शास्त्र में पूजा पाठ से जुड़े कुछ ऐसे नियम बताए गए हैं, जिनका पालन करना बहुत शुभ माना जाता है। उसी तरह इसमें ये भी बताया गया है कि पूजा पाठ से संबंधित ऐसी कई चीजे हैं जिन्हें जमीन पर रखने से अपशगुन होता है।

 

Shaligram - शालिग्राम - Prabhubhakti1. शालिग्राम या शिवलिंग
वास्तु शास्त्र के अनुसार शालिग्राम को भगवान विष्णु का और शिवलिंग को भगवान शिव का प्रतीक माना गया है। इसी कारण इन्हें कभी भी भूलवश भी जमीन पर नहीं रखना चाहिए। मंदिर की साफ-सफाई के दौरान लोगों से ये गलती होने की आशंका बनी रहती है। इसलिए ध्यान रहें कि जब भी आप सफाई करें इन्हें किसी कपड़े में रखकर किसी स्वच्छ स्थान पर ही रखें।

प्रतिदिन शंख वादन करने से बढ़ती है स्मरण शक्ति, नहीं होते शारीरिक रोग -  recital counch will give health benefits2. धूप, दीप, शंख और पुष्प
भगवत गीता के मुताबिक, शंख, दीप, धूप, यंत्र, पुष्प, तुलसीदल, कपूर, चंदन, जपमाला आदि जैसी पूजापाठ की चीजों को जमीन पर कभी नहीं रखना चाहिए। ऐसा इसलिए माना जाता है क्योंकि इन सभी चीजों का इस्तेमाल पूजा में किया जाता है, इसलिए इन्हें जमीन पर कभी सीधे नहीं रखना चाहिए।

Gemstones/Rashi Ratan: According Astrology Advice of which gems to be worn  for career Growth - Career में तरक्की के लिए ज्योतिष इन रत्नों को पहनने की  देते हैं सलाह, जानिए - Jansatta3. रत्न
मोती, हीरा और सोना जैसे बहुमूल्य रत्न को कभी सीधे जमीन पर नहीं रखना चाहिए ऐसा शास्त्रों में लिखा है। माना जाता है कि धातु का संबंध किसी न किसी ग्रह से होता है। इसलिए इन्हें सीधे जमीन पर रखना अपशगुन माना जाता है। यदि आपके पास इनसे जुड़ा कोई भी गहना है तो उसे कभी जमीन पर सीधे न रखें।

किसानी के क्षेत्र में अनूठी पहल, हरियाणा में मोती की खेती भी शुरू - Yuva  Haryana4. सीप
कहा जाता है कि सीप की उत्पत्ति समुद्र से होने कि वजह से इसका संबंध लक्ष्मी जी से होता है। इस वजह से इसे सीधे जमीन पर नहीं रखना चाहिए। मां लक्ष्मी की पूजा में सीप और कौड़ी का विशेष महत्व होता है इसी कारण कभी भी इन्हें जमीन पर न रखें।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.