वास्तु टिप्स: घर की इन जगहों पर बनाएं स्वास्तिक का चिह्न, मिलेगा धन और दांपत्‍य सुख

0
Swastik Sign At Home (1)

हिन्दू धर्म में स्वास्तिक को बेहद शुभ माना गया है। सभी घरों में मांगलिक कार्य हो या धार्मिक अनुष्ठान स्वास्तिक का चिह्न बनाने से घर में शुक शांति आती है। यही कारण है कि कोई शुभ कार्य करने से पहले स्वास्तिक का निशान जरूर बनाया जाता है। स्वास्तिक को विघ्न विनाशक श्री गणेश भगवान का प्रतीक माना जाता है। धार्मिक दृष्टि से तो स्वास्तिक बेहद शुभ होता ही है साथ में वास्तु में भी स्वास्तिक का बेहद महत्व होता है। ऐसा माना जाता है जिस स्थान पर स्वास्तिक का चिन्ह बना होता है उस स्थान पर नकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाती है। घर में कुछ ऐसे स्थान होते हैं जहां आप स्वास्तिक का निशान बनाकर लाभ उठा सकते हैं। आज हम आपको बताएंगे कि वह कौन सा स्थान है जहां पर स्वास्तिक का चिह्न बनाने से आपके घर में लक्ष्मी जी का वास् होगा।

 

वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि घर के मुख्य द्वार की दोनों तरफ की दीवारों पर सिंदूर से स्वास्तिक चिह्न बनाना चाहिए। ऐसा करने से आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश नहीं कर सकती है। इससे अगर आपके द्वार में वास्तु दोष है तो उससे भी मुक्ति मिलती है। मुख्य द्वार पर स्वास्तिक बनाने से घर में शुभता और समृद्धि आती है।

अपनी तिजोरी में आपको स्वास्तिक का चिह्न बनाना चाहिए। वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि तिजोरी में स्वास्तिक का चिह्न बनाने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और उनका घर में आगमन होता है। ऐसा करने से आपके घर में धन की कमी नहीं होती है और धन में बरकत बनी रहती है।

अगर आप अपने घर के मंदिर में स्वास्तिक बनाकर उसके ऊपर देवी-देवताओं की मूर्ति रखकर पूजा करेंगे तो उनकी कृपा आप पर बनी रहेगी। ऐसा करने से आपके घर में सुख, शांति बनी रहेगी। साथ ही घर में पॉजिटिव एनर्जी आती है।

घर की मुख्य महिला को मां लक्ष्मी जी कृपा पाने के लिए प्रतिदिन सुबह जल्दी उठकर घर की साफ-सफाई करने के बाद स्नानादि करके पूजन करना चाहिए। देवी-देवताओं की पूजा करने के बाद देहली की पूजा अवश्य करनी चाहिए। सबसे पहले देहली को स्वच्छ करके उसके दोनों तरफ स्वास्तिक का चिह्न बनाएं, उसके बाद चावल की एक-एक ढेरी रखें। उसके बाद मन में मां लक्ष्मी का ध्यान करें। ऐसा रोजाना करने से मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.