बरकत चाहिए तो घर में रखें ये पांच चीजें

0
vastu dosh

कई बार ऐसा होता है व्यक्ति दिन-रात मेहनत करता है और पैसा भी खूब आता है लेकिन फिर भी वह आर्थिक तौर पर परेशान रहता है। इंसान के लाख चाहने पर भी बचत नहीं हो पाती। घर में पैसा कब आता है और कब खर्च हो जाता है पता ही नहीं चल पाता। अगर आपके घर में भी बिन वजह के खर्चे बढ़ गए हैं और धन संचय नहीं हो पा रहा है तो वास्तुशास्त्र (Vaastu Shaastra) के कुछ नियम अपना कर आप इस समस्या ने निजात पा सकते हैं। वास्तु शास्त्र (Vaastu Shaastra) में कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताया गया है जिनका इस्तेमाल सही स्थान या फिर सही दिशा में करने से घर में धन की समस्या दूर होने लगती है और बरकत बढ़ने लगती है। वास्तु के नियमों को अपनाने से घर में सकारात्मक ऊर्जा (positive energy) का प्रवाह बना रहता है और परिवार के सदस्यों की तरक्की होती है। आइए जानते हैं कि वास्तु शास्त्र (Vaastu Shaastra) की वह कौन-कौन सी चीजे हैं जिन्हें घर में रखकर सकारात्मकता और आर्थिक उन्नति प्राप्त की जा सकती है।

धातु से निर्मित मछली व कछुआ

वास्तु शास्त्र (Vaastu Shaastra) के अनुसार घर के उत्तर दिशा में धातु से निर्मित मछली और कछुआ रखने से घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है और पैसों की बरकत होती है। धातु से निर्मित कछुए को किसी पानी के पात्र में रखना चाहिए। घर में कछुआ इस तरह से रखना चाहिए कि उसका मुख अंदर की तरफ रहे।

लक्ष्मी माता की मूर्ति

उत्तर दिशा धन के देवता कुबेर की दिशा मानी जाती है। साथी ही लक्ष्मी माता को भी धन की देवी मां जाता है वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में लक्ष्मी माता की कमल पर विराजमान उत्तर दिशा में रखनी चाहिए। लक्ष्मी माता की मूर्ति ऐसी होनी चाहिए जिसके हाथ से सोने के सिक्के गिर रहे हों तो घर में हमेशा सुख समृद्धि का वास होता है।

सोने और चांदी के सिक्के

वास्तुशास्त्र (Vaastu Shaastra) के अनुसार सोने और चांदी के कुछ सिक्के लाल कपड़े में बांध कर उसे एक सुन्दर से मिट्टी का बर्तन में रख दें। इसके बाद उस पात्र को गेहूं या चावल से भर दें। अब इस बर्तन को अपने घर की उत्तर-पश्चिम दिशा में रख दें। ऐसा करने से घर में बरकत बनी रहती और धन का आवागमन निरंतर बना रहता है।

मिट्टी के घड़े में पानी

वास्तुशास्त्र (Vaastu Shaastra) में कहा गया है कि एक मिट्टी के घड़े में पानी भरकर घर की उत्तर दिशा में रखने से भी घर में धन की आवक बनी रहती है लेकिन इस बात का हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि घड़े का पानी सूखने न पाए। पानी को समय-समय पर बदलते ही रहना चाहिए ताकि उसमें किसी तरह के कीटाणु न पनपे।

सूर्य यंत्र की स्थापना

वास्तु में कहा गया है कि घर की पूर्व दिशा में सूर्य यंत्र की स्थापना करने से भी धन की बरकत होती है। मान्यता है कि ऐसा करने से घर में सकारात्मक उर्जा का संचार होता है और परिवार के सदस्यों की तरक्की होती है।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.