ग्रह और वास्तु दोष को दूर करते हैं ये पांच पौधे, पल भर में बदल देते हैं जीवन

0

सभी लोग पेड़ पौधे पसंद करते हैं. हरियाली देख कर सभी को हर्ष का अनुभव होता है. इसके अलावा पेड़ पौधे पर्यावरण को शुद्ध रखते हैं. इसके अलावा ये दिमाग को स्वस्थ रखते हैं. अगर घर में पेड़ पौधे लगाए जाते हैं, तो ये घर को सुंदर बनाते हैं. इसी कारण लोग सिर्फ आउटडोर प्लांट ही नहीं, बल्कि इनडोर प्लांट भी लगाते हैं. लेकिन पौधों का सीधा संबंध इंसान के सौभाग्य और दुर्भाग्य से होता है.

कुछ पौधों को वास्तु में लाभकारी कहा गया है, इनको अगर घर में लगाया जाए, तो घर से वास्तु दोष कम होता है.वास्तु अनुसार कुछ पौधों को घर में लगाने को मना किया है. आज इस आर्टिकल में हम आपको उन पौधो के बारे में बताएंगे जिनको घर में लगाया जाएं, तो तरक्की होती हैं…

तुलसी

घर की पूर्व दिशा या उत्तर-पूर्व दिशा में तुलसी का पौधा लगाना जरूरी है. ऐसा कहा जाता है कि तुलसी का पौधा यदि सही दिशा में लगाया जाता है, तो घर के वास्तुदोष दूर होते हैं. नियमित तौर पर तुलसी की नीचे दीपक जलाया जाता है, तो मां लक्ष्मी भी खुश होती हैं. लेकिन याद रखें कि दक्षिण दिशा में न लगाएं.

मनीप्लांट

मनीप्लांट का पौधा जितनी तेजी से फैलता है, उतनी तेजी से घर में धन और समृद्धि भी आती है. इसे घर की आग्नेय दिशा यानी दक्षिण-पूर्व दिशा में लगााना चाहिए. इससे घर में पॉजिटिविटी आती है.

पारिजात

स्वर्ग के पौधे को पारिजात का पौधा कहलाया जाता है. इसको कल्पवृक्ष भी कहते हैं. इस पौधे के फूलों की खूशबू काफी दूर तक फैलती हैं. कहा जाता है कि ये पौधा जिस घर में लगाया जाता है वहां उस घर में देवी-देवताओं का आशीर्वाद बना रहता है. इसके फूल को प्रतिदिन भगवान को चढ़ाएं, तो सोना दान करने जितना पुण्य मिलता हैं.

शमी

घर में शमी का पौधा लगाना भी काफी शुभ होता है. बहुत सी भ्रांतियां हैं कि समी के पौधे का संबन्ध शनिदेव से है. शनिदेव किसी को भी राजा या रंक कर सकते हैं. लोग इस कारण समी के पौधे को घर में लगाने से बचते हैं. लेकिन अगर इस पौधे को घर के गेट के बाईं ओर लगाते हैं और इसके नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाते हैं, तो शनिदेव प्रसन्न होते हैं. ये करने से घर में धन धान्य की कमी नहीं होती हैं और शनिदेव भी खुश रहते हैं.

आंवला

माना जाता है कि आंवला के पेड में देवताओं का वास होता है. नारायण को ये पेड़ बहुत प्रिय है. घर में इस पेड़ को लगाकर इसके नीचे प्रतिदिन दीपक जलाएं, तो नारायण और लक्ष्मी दी खुश होते हैं. घर में धन की कमी नहीं होता हैं.

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.