लव अफेयर और मैरिज लाइफ को दर्शाती हैं आपके हाथों की ये रेखाएं…

0

हस्त रेखा विज्ञान अधिकतर लोग अपने प्रेम संबंधों यानी लव लाइफ और  वैवाहिक जीवन को लेकर काफी उत्साहित होते हैं. हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार व्यक्ति के हाथ में विवाह रेखा होती है, जो लव अफेयर्स और किस्मत में प्रेम विवाह को भी दर्शाती है. आइए जानते हैं हथेली में कैसे करें इसकी पहचान.
हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हाथ की सबसे छोटी उंगली यानी कनिष्ठिका के नीचे वाले भाग में विवाह रेखा होती है. कुछ लोगों की हथेली में इस स्थान पर एक से अधिक रेखाएं होती हैं. हस्तरेखा के जानकारों के अनुसार किसी स्त्री या पुरुष के प्रेम संबंधों के बारे में पता लगाने के लिए मुख्य रूप से हाथ में शुक्र पर्वत, हृदय रेखा और विवाह रेखा को देखा जाता है.

हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार व्यक्ति के हाथ में विवाह रेखा की संख्या जितनी होती है, इतने ही जीवन में प्रेम प्रसंग होते हैं. यदि किसी व्यक्ति के हाथ में 3 विवाह रेखा दिखाई दे रही हैं, जिसमें 2 छोटी और हल्की हैं जबकि तीसरी गहरी है तो इसका मतलब है कि 2 लव अफयेर रहेंगे और फिर शादी होगी. इन रेखाओं में सबसे लंबी और गहरी रेखा विवाह रेखा कहलाती है.Photo of लव अफेयर और मैरिज लाइफ को  दर्शाती हैं आपके हाथों की ये रेखाएं…

यदि किसी व्यक्ति के हाथ में विवाह रेखा हृदय रेखा को काटते हुए नीचे की तरफ जाए तो व्यक्ति लव मैरिज होने पर परेशान रहता है. जबकि हथेली में हृदय रेखा को कोई अन्य रेखा काटती हो तो प्रेमियों का मिलना मुश्किल होता है.

विवाह रेखा स्पष्ट और गहराई वाली शुभ मानी जाती है. स्पष्ट विवाह रेखा वाले व्यक्तियों का वैवाहिक जीवन खूबसूरत होता है. यदि विवाह रेखा टूटी हुई होती है तो दाम्पत्य जीवन में अड़चन आती है.

हथेली में मंगल पर्वत और बुद्ध पर्वत के स्थान पर रेखाओं का जाल होने पर प्रेमी जोड़े लाइफ पार्टनर नहीं बन पाते बल्कि उनको बिछड़ना पड़ सकता है.

हस्तरेखा के अनुसार यदि किसी व्यक्ति की हथेली में विवाह रेखा सूर्य रेखा तक होती है तो ऐसे व्यक्ति का विवाह किसी समृद्ध और संपन्न परिवार में होता है.

विवाह रेखा नीचे की ओर मुड़ी हुई होने पर वैवाहिक जीवन में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. यदि विवाह रेखा के ऊपर दो शाखाएं हों तो शादी टूटने का डर रहता है.

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.