जानें राशि के अनुसार…किस उम्र में आपके पास होगा सबसे ज्यादा पैसा

0

हर व्यक्ति कठिन परिश्रम से अमीर बन सकता है.  हालांकि, अमीर या गरीब होना कई बार किस्मत की भी बात होती है.  ज्योतिष के अनुसार, धन लाभ होना राशि पर भी निर्भर करता है. ऐसे में जानते हैं ज्योतिर्विद शैलेंद्र पांडेय से कि किस राशि के लोगों को किस उम्र में ज्यादा धन मिलता है.

मेष– मेष राशि के लोगों को 19, 28, 37 और 55 वर्ष की आयु में अचानक प्रचुर धन मिलने के योग होते हैं. आमतौर पर, इन लोगों को स्वयं की मेहनत से धन मिलता है. अगर आप चाहते हैं कि आपको पर्याप्त धन का लाभ होता रहे तो नियमित रूप से मां लक्ष्मी को गुलाब का फूल अर्पित करें. ऐसा करने से मां लक्ष्मी की कृपा आप पर बनी रहेगी और आपको नियमित धन मिलता रहेगा.

वृष– इस राशि के लोगों को कड़ी मेहनत करने के बाद धन प्राप्ति होती है. उम्र के 29वें, 38वें और 56वें वर्ष में धन आगमन की संभावना प्रबल होती है. वृष राशि के लोगों को अपने जीवनसाथी से धन मिलने की संभावना जरूर बनती है. ऐसे व्यक्ति नियमित रूप से स्फटिक की माला धारण करें जिससे इन्हें धन का अभाव ना हो.

मिथुन– मिथुन राशि के जातकों को आयु के 27, 36, 45 और 57वें वर्ष में धन मिलने की प्रबल संभावना होती है. पिता पक्ष से और स्वयं की मेहनत से इनको धन जरूर प्राप्त होता है. नियमित रूप से हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाएं और इनकी उपासना करें.

कर्क– कर्क राशि के लोगों को आयु के 23, 37, 32, 48 और 58वें वर्ष में धन के मजबूत योग बनते हैं. इस राशि के जातकों को धन प्राप्ति के मामले में ससुराल पक्ष का विशेष सहयोग मिलता है. नियमित रूप से मां लक्ष्मी को गुलाब का इत्र अर्पित करें. इससे आपको धन मिलता रहेगा.

सिंह– सिंह राशि के लोगों को स्वयं की मेहनत से धन मिलता है. आयु के 28, 32, 50 और 68वें वर्ष में धन प्राप्ति के मजबूत योग बनते हैं. नियमित रूप से मां लक्ष्मी को इलायची अर्पित कर इसे प्रसाद के रूप में ग्रहण करें. ऐसा करने से धन संबंधी मुश्किलें दूर होती हैं.

कन्या– इस राशि के लोगों को अपने कारोबार और जीवनसाथी के द्वारा नियमित धन मिलता रहता है. खासतौर से आयु के 15, 24, 33 और 42वें वर्ष में अपार धन मिल सकता है. नियमित रूप से चांदी धारण करें और भगवान शिव की उपासना करने से धन प्राप्ति सरल हो जाती है.

तुला– इस राशि के जातकों को आयु के 16, 34, 42, 51वें वर्ष में स्त्री पक्ष से धन प्राप्ति के योग बनते हैं. नियमित रूप से सूर्य भगवान को जल चढ़ाने से धन प्राप्ति और खर्चे संतुलित रहते हैं.

वृश्चिक– वृश्चिक राशि के लोगों को पिता, चाचा आ पिता के पक्ष के लोगों की तरफ से धन मिलने के योग होते हैं. उम्र के 35, 44, 53, 62वें वर्ष में प्रचुर धन मिलने की संभावनाएं होती हैं. नियमित रूप से गणेश जी को दूर्वा अर्पित करें और पौधों में जल डालें. ऐसा करने से धन की प्राप्ति होती रहेगी.Photo of जानें राशि के अनुसार…किस उम्र में आपके पास होगा सबसे ज्यादा पैसा

धनु– उम्र के 36, 45, 54 और 63वें वर्ष में धन प्राप्ति के योग बनते हैं. इस राशि के जातकों को माता या माता के पक्ष से धन लाभ की संभावना होती हैं. नियमित रूप से मां लक्ष्मी को गुलाब का फूल चढ़ाएं और गुलाब की सुगंध का खुद प्रयोग करने से धन की प्राप्ति आसानी से होती रहेगी.

मकर– आमतौर पर इस राशि वालों को अपने कारोबार से धन मिलता है. उम्र के 24, 37, 46 और 55वें वर्ष में धनागमन की संभावना होती है. नियमित रूप से मंगलवार का उपवास रखें और हुनमान जी की पूजा-अर्चना करें. ऐसा करना लाभकारी होता है.

कुंभ– इस राशि के जातकों को अपने भाग्य से और ईश्वर की कृपा से धन मिलता है. आयु के 29, 28, 47 और 57वें वर्ष में इनकों प्रचंड धन लाभ होता है. नियमित रूप से मंदिर में केले का दान करें.

मीन– उम्र के 39, 48 और 57वें वर्ष में धन के आगमन की प्रबल संभावनाएं बनती है. इस राशि के जातकों के लिए संतान पक्ष हमेशा आर्थिक लाभ का कारण बनता है. नियमित रूप से पीपल के पक्ष के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं. ऐसा करना लाभकारी होता है.

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.