इन पांच जगहों पर भूलकर भी ना हांसे कभी, माना जाता हैं करोड़ों पापों का भागीदार

0

वैसे तो हंसना सेहत के लिए अच्छा माना जाता है। हंसने से ही मनुष्य कई प्रकार के रोगों से छुटकारा पा सकता है। किन्तु वही ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, कुछ ऐसी भी जगह होती हैं जहां पर मनुष्य को भूलकर भी नहीं हंसना चाहिए। किन्तु फिर भी यदि मनुष्य इन जगहों पर हंसता है तो वह करोड़ों पापों का भागीदार बनता है। Photo of इन पांच जगहों पर भूलकर भी ना हांसे कभी, माना जाता हैं करोड़ों पापों का भागीदार

इन जगहों पर मनुष्य को नहीं हंसना चाहिए:

यदि कोई मनुष्य श्मशान में जाकर हंसता है तो उसका यह हंसना 100 पापों के समान माना जाता है। श्मशान में हंसने से उस मनुष्य के परिवार का भी अनादर माना जाता है जो परिवार शोक में डूबा हुआ है।

किसी भी मृतक के शोक यात्रा में जाने पर भी नहीं हंसना चाहिए। ऐसा करने से उस मृतक शख्स का अपमान होता है जिसकी मौत हुई रहती है।

किसी शोकाकुल परिवार के यहां जाने पर भी हमें हंसी-ठिठोली नहीं करना चाहिए। यहां तक कि शोकाकुल परिवार के यहां जाने पर वहां फालतू की बातें या गप्पे भी नहीं करना चाहिए।

हमें किसी मंदिर में भी कभी हंसी-ठिठोली नहीं करना चाहिए। क्योकि मंदिर में हम ईश्वर से कुछ मांगने के लिए जाते हैं इसलिए मंदिर में शांत मन से ईश्वर को याद करते हुए प्रार्थना करनी चाहिए।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.