हर किसी को जरुर पता होना चाहिए घर में पायदान रखने के ये खास नियम…

0

अक्सर हम अपने घर को सजाने के लिए कई चीजों का इस्तेमाल करते है। लेकिन इसके साथ ही हमें वास्तु शास्त्र का भी ध्यान होना बहुत जरुरी है। वास्तु शास्त्र के द्वारा घर को दोषमुक्त किया जा सकता है। इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है और सुख और समृद्धि बनी रहती है। आज हम आपको घर में पायदान या डोरमैट रखने की सही दिशा के बारे में बताने जा रहे हैं। Photo of हर किसी को जरुर पता होना चाहिए घर में पायदान रखने के ये खास नियम…

पायदान रखने के नियम:

घर के पायदान का आकार आयताकार होना चाहिए। इससे घर वालों के रिश्ते मजबूत बनते हैं।

घर में टूटी हुई दहलीज से लड़ाई-झगड़े बढ़ते हैं। ऐसे में इसके ऊपर पायदान रखने से छोटे-छोटे विवादों से बचा जा सकता है।

अगर आपके घर में भी अशांति का माहौल है तो पायदान के नीचे काले कपड़े में थोड़ा कपूर बांधकर रखें। इससे नकारात्मकता दूर होने के साथ संबंध मजबूत होंगे।

इस बात का ध्यान रखें कि घर का मुख्य दरवाजा पूर्व दिशा में हो तो पायदन का रंग हल्का होना चाहिए।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.