निसंतान दंपत्तियों के लिए कुत्ते पालना शुभ और बेहद लाभदायी माना जाता है, जानिए….

0

मौजूदा समय में कुत्ते का पालना लोगों का शौक और स्टेटस सिम्बल बन चुका है. ये कुत्ते न केवल घर की सुरक्षा करते हैं, बल्कि घर की नकारात्मक ऊर्जा को भी खत्म करते हैं.  वास्तु शास्त्र में कुत्तों को पालना शुभ और बेहद लाभदायी माना गया है. आइये जानें घर में कुत्ते पालना क्यों लाभदायी और शुभ है?

क्यों पालना चाहिए घर में कुत्ते– हिंदू धर्म ग्रंथों में कुत्ते को भैरव भगवान का दूत कहा गया है. ऐसी मान्यता है कि कुत्तों में भूत- प्रेत और आत्मा को देख लेने की क्षमता होती है. जिस घर में कुत्ते रहते हैं, उस घर के आसपास बुरी आत्माएं नहीं भटकती हैं.  माना जाता है कि घर में कुत्तों को खाना खिलने से यमदूत आस –पास नहीं आते है.

घर में होता है लक्ष्मी का आगमन : मान्यता है कि सुबह सो कर उठते ही कुत्ते  को देखने से घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है. इसके साथ ही घर में लक्ष्मी प्रवेश करती है. जिससे घर परिवार में समृद्धि आती है.

शनिदेव होंगे प्रसन्नमाना जाता है कि घर में रोज कुत्तों को खाना खिलाने से शनिदेव खुश होते हैं. शनिदेव की कृपा उस घर परिवार पर बनी रहती है. मान्यता है कि कुत्ते को तेल से चुपड़ी रोटी खिलाने से राहु और केतु का निवारण होता है. राहु और केतु की ग्रह से शांति मिलती है.

निःसंतान दंपत्तियों को होती है संतान की प्राप्तिमान्यता है कि घर में कुत्ते पालने से घर परिवार में नए मेहमान का आगमन होता है. जिन दंपत्तियों को संतान नहीं हैं. उन्हें अपने घर में कुत्ते पालने चाहिए. माना जाता है कि इससे घर में जल्द ही किलकारियां गूंजेगी.

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.