घर में रोजाना इस जगह जलाएं मोमबत्ती, फिर देखे कैसे बदल जाती हैं आपकी किस्मत…

0

चीनी वास्तुशास्त्र में मोमबत्ती को विशेष महत्व दिया जाता है। माना जाता है कि इसे घर पर रखने व जलाने से वातावरण शुद्ध होता है। घर में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा सकारात्मक ऊर्जा में बदल जाती है। पैसों, नौकरी व तनाव की समस्याएं दूर होकर घर में सुख-समृद्धि व खुशहाली आती है। वहीं वास्तुोष दूर होने में भी मदद मिलती है। मगर इसे लगाने से पहले सही दिशा व रंग चुनना बेहद जरूरी है। तभी पूरा लाभ मिल सकता है। तो आइए आज हम आपको मोमबत्ती से जुड़ी ये खास बाते बताते हैं…Photo of घर में रोजाना इस जगह जलाएं मोमबत्ती, फिर देखे कैसे बदल जाती हैं आपकी किस्मत…

फेंगशुई के अनुसार, मोमबत्ती को हमेशा घर की उत्तर-पूर्वी, दक्षिणी या दक्षिण-पश्चिमी दिशा में ही रखें। इससे घर में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा सकारात्मक ऊर्जा में बदल जाती है। घर का वास्तुदोष दूर होकर सुख-समृद्धि व शांति का वास होता है। साथ ही धन संबंधी समस्याएं दूर होकर अन्न व धन की बरकत बनी रहती है। वहीं इसे घर की उत्तर दिशा के कोने में लगाने से बचना चाहिए। नहीं तो धन का आगमन रुकावट हो सकती है।

अगर आपके बच्चे का ध्यान पढ़ाई में नहीं लग रहा है तो उसके कमरे की पूर्वी, उत्तर-पूर्वी और दक्षिण भाग में मोमबत्ती जलाएं। इससे उसका ध्यान पढ़ाई की तरह आकर्षित होगा। साथ ही एकाग्रता शक्ति बढ़ने से उसके ज्ञान में वृद्धि होगी।

घर की उत्तर दिशा की तरह वायव्य स्थान यानी उत्तर-पश्चिम दिशा में मोमबत्ती नहीं जलानी चाहिए। इससे घर में तनाव व अशांति फैलती है। वहीं ऑफिस या कार्यक्षेत्र के वायव्य कोण यानी उत्तर-पश्चिम में मोमबत्ती ना जलाएं। इससे बिजनेस पार्टनर के साथ किसी तरह का मनमुटाव हो सकता है।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.