इन जगहों पर घर में रखे बुद्ध की मूर्ति, रखते ही चमक उठेगी आपकी किस्मत…

0

हर मनुष्य अपने घर-परिवार में खुशी का माहौल चाहता है. घर का माहौल खुशनुमा बनाने के लिए कई लोग पूजा-पाठ, हवन इत्यादि उपाय करते हैं. पर इन सबसे हटकर बुद्ध की मूर्ति को घर पर रखना बेहद सरल उपाय है. इससे घर खूबसूरत भी लगता और परिवार में खुशियां बनी रहती हैं.

वास्तु शास्त्र के अनुसार, व्यक्ति के मन की स्थिति सीधे उसके रहने की जगह से जुड़ी होती है. इसलिए कहा जाता है कि बुद्ध की मूर्ति को घर में उचित स्थान पर रखने से व्यक्ति का मानसिक स्वास्थ्य ठीक रहता है और घर में शांति बनी रहती है.

प्रवेश द्वार– वास्तु के अनुसार, घर के प्रवेश द्वार पर रक्षा मुद्रा में बुद्ध की मर्ति को स्थापित करना शुभ माना जाता है. रक्षा मुद्रा में एक हाथ आशीर्वाद को संबोधित करता है और दूसरे हाथ का अर्थ आसपास की रक्षा करना है. हालांकि, बुद्ध की मूर्ति को कभी भी जमीन पर नहीं रखना चाहिए. इसे जमीन से तीन-चार फीट ऊपर स्थापित करना चाहिए.

लिविंग रूम– वास्तु के अनुसार, दायीं ओर झुके हुए बुद्ध की प्रतिमा को पश्चिम की तरफ मुंह करके स्थापित करें. ऐसा करने से घर में शांति और समृद्धि बनी रहती है. इसे हमेशा एक साफ टेबल या शेल्फ पर रखना चाहिए. इससे मानसिक तनाव दूर रहता है.

बगीचे– वास्तु के अनुसार, अपने बगीचे में साफ स्थान पर ध्यान मुद्रा वाली बुद्ध की मूर्ति को स्थापित करें. इससे बगीचे में टहलते समय आप अधिक सहज और शांत महसूस करेंगे.Photo of इन जगहों पर घर में रखे बुद्ध की मूर्ति, रखते ही चमक उठेगी आपकी किस्मत…

पूजा स्थान– बुद्ध के कई अनुयायी, ध्यान मुद्रा वाली बुद्ध की कलाकृतियों को अपने पूजा स्थान पर रखते हैं. ऐसा करने से ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है. इसके अलावा, बुद्ध की मूर्ति से आपको सकारात्मक ऊर्जा और मन की शांति प्राप्त होती है. वास्तु के अनुसार, इस प्रतिमा का मुख पूर्व की ओर करके रखें क्योंकि ये ज्ञानोदय का प्रतिनिधित्व करता है. हालांकि, बुद्ध की इस मूर्ति को आंखों के स्तर पर ही रखें. इसे आंखों के स्तर से नीचे रखना अशुभ माना जाता है.

बच्चों के रूम में– बुद्ध की विभिन्न मुद्राओं का अलग-अलग अर्थ होता है. टेबल पर बुद्ध की मूर्ति का मुख पूर्व की ओर रखने से शिक्षा में सफलता प्राप्त होती है. आप लेटे हुए बुद्ध या एक छोटे सिर वाली बुद्ध की मूर्ति भी रख सकते हैं.

मुख्य द्वार के पास की दीवार पर– वास्तु के अनुसार, घर की दीवार पर बुद्ध की पेंटिंग को टांगने से घर में शांति बनी रहती है. इसे लिविंग रूम में अपनी इच्छानुसार इसे टांग सकते हैं. लेकिन, वास्तु के अनुसार, बुद्ध की पेंटिंग हमेशा घर के अंदर होनी चाहिए.

बुक शेल्फ- लाफिंग बुद्धा, गौतम बुद्ध से बिल्कुल अलग है.  हालांकि, लाफिंग बुद्धा शांति और खुशी का प्रतीक है. वास्तु के अनुसार, इसे पूर्व दिशा में बुक शेल्फ पर रखें. ऐसा करने से घर में खुशी का माहौल बना रहता है.

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.