आखिर गले में क्यों पहनी जाती हैं तुलसी की माला, जान लें इसके पीछे की वजह

0

हिन्दु धर्म में ज्यादातर घरों के आंगन में तुलसी का पौधा लगाया जाता है। तुलसी का पौधा लगाने से घर में सुख-शांति बनी रहती है। रोजाना सुबह नहा-धोकर तुलसी की पूजा की जाती हैं। जिस घर के आंगन में तुलसी का पौधा होता है, वहां किसी तरह का कोई वास्तुदोष नहीं होता है। इससे घर में पॉजिटिव एनर्जी आती है।

क्यों पहननी चाहिए तुलसी की माला:Photo of आखिर गले में क्यों पहनी जाती हैं तुलसी की माला, जान लें इसके पीछे की वजह

# तुलसी एक अद्‍भुत औषधि है जिससे ब्लड प्रेशर व डाइजेशन बेहतर होता है। इसके अलावा मलेरिया तथा अन्य प्रकार के बुखारों में तुलसी बहुत फायदेमंद होती है।

# तुलसी की माला पहनने से मानसिक शांति मिलती है। इसे गले में पहनने से जरूरी एक्यूप्रेशर प्वाइंट्स पर प्रेशर पड़ता है, जिससे मानसिक तनाव में फायदा होता है। संक्रामक रोगों से रक्षा होती है।

# तुलसी मेमोरी को बढ़ाने में मदद करती है। तुलसी का धार्मिक और आयुर्वेदिक महत्व भी है। यह एंटीबायोटिक, दर्द-निवारक और इम्‍यूनिटी क्षमता बढ़ाने में भी फायदेमंद होती है।

# तुलसी की माला में इतनी शक्ति होती है कि वह शरीर से पीलिया के रोग को जल्दी खत्म कर देती है। ऐसा कहा जाता है कि कॉटन के सफेद धागे में तुलसी की लकड़ी बांध कर पहना जाए तो पीलिया जल्दी से कम होता है।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.