मात्र 1 मिनट में लड़कियों चाल से जाने की उसने सेक्स किया है या नहीं, जानें कैसे

0

लड़कियों चाल से जाने की रात को क्या किया -लड़कियों चाल से जाने की रात को सेक्स किया या नही  है-Girls move, what to leave on the night -लकड़ी की चाल से या चलने के तरीके से ये पता लगाया जा सकता है की वो अपनी सेक्स लाइफ में संतुस्ट है या नही और सुबह उनकी चाल देखकर ये पता चलता है की रात को सेक्स किया है या नही –

औरतों की चाल बताती है यौन संतुष्टि है

 महिलाओं की चाल काफी कुछ दर्शाती है। महिलाओं की चाल से आप उनके इश्क का पैमाना भी माप सकते हैं। अध्ययन के अनुसार महिलाओ की चाल से पता लगाया जा सकता है कि वे इश्क फरमाने के लिए तैयार हैं या नहीं-लडकियों चाल से जाने उनका खास राज -The special rule to move the girls go 

इतना ही नहीं महिलाओं की चाल से उनके यौन जीवन के बारे में भी पता लगाया जा सकता है। जब महिला के गर्भवती होने की संभावना होती है तो उसकी चाल-ढाल अपेक्षाकृत ज्यादा आकर्षक और कामोत्तेजक हो जाती ह

स्त्री की चाल से यह भी पता लगाया जा सकता है कि वह अपनी सेक्स लाइफ से संतुष्ट है या नहीं। यौनविशेषज्ञों द्वारा किए गए एक अध्ययन में पता चला है कि स्त्री का चलने का तरीका उसके यौन जीवन को दर्शाता है।

औरतों की चाल से पता चलेगा की उन्हें कितनी बार हुआ ऑर्गेज्म – 

कभी आपने इस प्रकार से सोचा था कि महिलाओ के चलने के तरीके से पता चलेगा उन्हें ऑर्गेज्म कितनी बार हो चूका है. यॉरटैंगो में छपी खबर के अनुसार हाल ही में बेल्जियम में किए गए एक अध्ययन में पता चला है कि फैशन और कैटवॉक जैसे चलने के अंदाज को देखकर समझा जा सकता है कि म‌हिला का सेक्स लाइफ एकदम सुकून में है. स्टडी को जर्नल ऑफ सेक्सुअल मेडिसिन में छापा गया. उसमें लिखा गया कि बेहद एनर्जी और फ्री वॉक महिलाओं में बताती है कि वो काफी बार सेक्स सकर चुकी हैं और संतुष्ट भी है. वहीं बेहद रफ चलन या ढीला चलन बताता है कि वो किसी तरह के सेक्सुअल असंतुष्टि को महसूस कर रही हैं. – 

सेक्स लाइफ से संतुष्ट हैं, उनकी चाल में आत्मविश्वास होता है-

इस शोध में यौनविशेषज्ञों ने स्त्रयों की चाल का बारीकी से परीक्षण किया। शोध में पाया गया कि जो स्त्रयां अपनी सेक्स लाइफ से संतुष्ट हैं, उनकी चाल में आत्मविश्वास होता है और चलते वक्त वे लंबे डग भरती हैं। जो स्त्रयां अपनी सेक्स लाइफ से संतुष्ट नहीं थी, उनकी चाल में आत्मविश्वास की कमी पाई गई। साथ ही वे चलते समय छोटे डग भरती

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/updarpan/public_html/namonamo.in/wp-includes/functions.php on line 5107

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/updarpan/public_html/namonamo.in/wp-includes/functions.php on line 5107