प्राकृतिक खूबसूरती और उछल-कूद मचाते कस्तूरी मृगों का घर है नंदा देवी नेशनल पार्क

0

शानदार पहाड़, चारों ओर फैली हरियाली और उनमें टहलते हुए जीव-जंतु कुछ ऐसा होता है नंदा देवी नेशनल पार्क का नज़ारा। ब्रम्ह कमल और भरल (पहाड़ी बकरी) यहां पार्क की शोभा बढ़ाते हुए मिल जाएंगे।प्राकृतिक खूबसूरती और उछल-कूद मचाते कस्तूरी मृगों का घर है नंदा देवी नेशनल पार्क

समुद्रतल से 3500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित नंदा देवी नेशनल पार्क, उत्तराखंड में स्थित है। लगभग 630.33 वर्ग किमी में फैला ये उत्तर भारत का सबसे बड़ा पार्क है।

यूनेस्को की लिस्ट में शामिल है ये पार्क

सन् 1939 में नंदा देवी को नंदा देवी सेंक्चुअरी का दर्जा मिला। 630 स्क्वेयर किमी में फैला ये पार्क 1982 में नंदा देवी नेशनल पार्क बना और साल 1988 में यूनेस्को ने इसे अपने वर्ल्ड हेरिटेज साइट की लिस्ट में शामिल किया।

नंदा देवी नेशनल पार्क की खासियत

जीव-जंतु

बड़े स्तनधारियों में हिमालयन कस्तूरी मृग, मेनलैंड सीरो, लाल लोमड़ी और हिमालयन ताहर देखे जा सकते हैं। इनके अलावा स्नो लैपर्ड, लंगूर के साथ ही ब्लैक और ब्राउन बियर पार्क की आप आसानी से अपने कैमरे में कैद कर सकते हैं। 1993 में यहां 114 प्रकार के पक्षियों की पहचान की गई थी। 40 प्रकार की तितलियां और इतनी ही मकड़ियां भी यहां मौजूद हैं।

पेड़-पौधे

नंदा देवी नेशनल पार्क कई सारी वनस्पतियों का भी घर है। यहां फूलों की 312 प्रजातियां मौजूद हैं वहीं 17 तरह की लुप्तप्राय जातियां जिसमें बर्च, रोडोडेड्रोन और जूपिटर खास हैं। वैसे ये भारत के तीर्थ स्थलों में से भी एक है।

नेशनल पार्क के आसपास चोटियां

नंदा देवी नेशनल पार्क के आसपास और भी कई सारी चोटियों को देखा जा सकता है जिसमें दुनागिरी (7066 मीटर), चांगबंद (6864 मीटर), कालंका (6931 मीटर), ऋषि पहाड़ (6992 मीटर), मैंगराव (6765 मीटर), नंदा खाट (6631 मीटर), मैकतोली (6803 मीटर), मृगथुनी (6655 मीटर), त्रिशूल (7120 मीटर), बेथारतोली हीमल (6352 मीटर) और पूर्वी नंदादेवी (7434 मीटर) शामिल हैं।

नंदा देवी नेशनल पार्क के लिए जरूरी ट्रैवल टिप्स

1. यहां आने वाले सैलानियों को ग्रूप में जाने की ही इज़ाजत है। जिसमें 5-6 लोग होते हैं। और ग्रूप के साथ गाइड जरूर रहते हैं।

2. 14 साल से ऊपर की आयु वालों ही यहां जा सकते हैं।

3. जंगल में किसी तरह के नियम-कानूनों का उल्लंघन मान्य नहीं।

4. घूमने आ रहे हैं तो हर तरह से फिट होना बहुत ही जरूरी है क्योंकि यहां रास्ते लंबे और टेढ़े-मेढ़े हैं साथ ही मौसम हर पल बदलता रहता है।

सही समय

नंदा देवी नेशनल पार्क, 1 मई से 31 अक्टूबर मतलब साल के 6 महीने ही खुलाता है। जो इसी दौरान यहां घूमने-फिरने का मज़ा ले सकते हैं। वैसे 15 जून से 15 सितंबर के बीच जाना हर तरीके से सही डिसीज़न है।कैसे पहुंचे

हवाई मार्ग- देहरादून का जॉली ग्रांट एयरपोर्ट यहां तक पहुंचने का नज़दीकी एयरपोर्ट है।

रेल मार्ग- ट्रेन से आ रहे हैं तो ऋषिकेश सबसे करीबी रेलवे स्टेशन है।

सड़क मार्ग- जोशीमठ से बसें मिलती हैं जिससे आप नंदा देवी नेशनल पार्क पहुंच सकते हैं। इसके अलावा ऋषिकेश और उत्तराखंड के बाकी जगहों से भी यहां तक के लिए बसों की सुविधा मौजूद है।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.