आप भी जाना चाहते हैं टेंशन फ्री हॉलीडे पर, तो ये टिप्स आएंगे बहुत काम

0

स्ट्रेस फ्री वेकेशन कौन नहीं चाहता। लेकिन जब बात बजट की होती है तो फाइनली थोड़ी सी सिरदर्दी लेना ओके..ओके लगता है। तो अगर आप उन लोगों में शामिल नहीं है जिन्हें बजट की फ्रिक होती है या उन लोगों में जो कई सारे भागदौड़ वाले ट्रिप के बाद अब थोड़ा रिलैक्सिंग ट्रिप करना चाह रहे हैं तो ये टिप्स आपके ही लिए हैं। इन पर गौर करें और फॉलो करें जो यकीनन बहुत काम की हैं।आप भी जाना चाहते हैं टेंशन फ्री हॉलीडे पर, तो ये टिप्स आएंगे बहुत काम

प्लानिंग के साथ आगे बढ़े

टेंशन फ्री ट्रैवलिंग का सबसे पहला स्टेप है प्लानिंग। बेशक अचानक से दोस्तों के साथ बनने वाले प्लान एक्साइटिंग होते हैं लेकिन वैसे ट्रिप्स को मैनेज करना हर किसी के बस की बात नहीं होती। तो ग्रूप में जा रहे हैं या अकेले, फ्लाइट, ट्रेन से लेकर होटल तक की बुकिंग करके आप न सिर्फ लास्ट मिनट में होने वाली भागदौड़ से बचेंगे बल्कि बहुत ही रिलैक्स फील करेंगे।

सफर का साथी चुन लें

न ना इसका मतलब दोस्त या रिश्तेदार नहीं बल्कि ट्रेन, फ्लाइट और बस से है। हर एक की एडवांस बुकिंग पैसे तो बचाती ही है साथ ही सिरदर्दी भी दूर करती है। सिर्फ फ्लाइट में ही नहीं ट्रेन और बसों में भी एडवांस बुकिंग की सुविधा अवेलेबल हैं तो इतंजार क्यों करना। अगर आपने वेकेशन प्लान कर लिया है तो अगला स्टेप यही है।

रहने, खाने-पीने का बंदोस्त है जरूरी

जो पूरी करेगा होटल। हां, पैसे बचाने हैं तो होटल पहले से बुक न कराएं लेकिन यहां हम बात टेंशन फ्री ट्रैवल की कर रहे हैं तो होटल की भी प्री बुकिंग करा लेना ही बेहतर डिसीजन है। ज्यादातर जगहों पर बढ़ते टूरिज्म को देखते हुए होमस्टे और बजट होटल्स की अवेलेबिलिटी होने लगी है लेकिन डेस्टिनेशन पर पहुंचकर इसे ढूंढ़ने में वक्त भी लगता है और ऐसा जरूरी भी नहीं कि आपको सस्ता और अच्छा होटल ही मिले।

पैसों का चक्कर न रखें

अपने देश में घूमने जा रहे हैं तो कोई बात नहीं लेकिन अगर दूसरे देश जा रहे हैं तो वहां की करेंसी की जरूरत पड़नी ही है। इसके लिए दो रास्ते हैं या तो आप अपने देश में ही करेंसी एक्सचेंज करा लें या फिर उस देश में पहुंचने के बाद किसी दुकान पर जाकर कराएं। एयरपोर्ट पर करेंसी एक्सचेंज कराना महंगा होता है।

अपनी पहचान रखें साथ

देश हो या विदेश, हर एक सफर में अपने साथ जरूरी डॉक्यूमेंट्स साथ रखें। ओरिजनल कॉपी अलग और सॉफ्ट कॉपी अलग, जिससे गुम या चोरी हो जाने पर आपके पास ऑप्शन्स हमेशा मौजूद हों।

पब्लिक ट्रांसपोर्ट है बेस्ट

ये कैसे टेंशन फ्री ट्रैवल का हिस्सा है यही सोच रहे हैं ना? बिल्कुल है…पब्लिक ट्रांसपोर्ट से आप पैसे भी बचा सकते हैं साथ ही सुरक्षित यात्रा भी कर सकते हैं। आसपास की जगहों को घूमने का इससे बेहतरीन कोई ऑप्शन हो ही नहीं सकता। टूर गाइड आपको गिनी-चुनी जगहों की ही सैर कराते हैं लेकिन शहर की खूबसूरती को नज़दीक से जानना चाह रहे हैं तो लोकल ट्रांसपोर्ट का सहारा लें।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.