शारीरिक संरचना से करें चरित्रहीन महिला की पहचान…

0

मनुष्य का चरित्र इससे तय होता है कि किसी कार्य के प्रति उसकी प्रवृत्ति कैसी है. वह जो कुछ बनता है, अपने सोच-विचार से बनता है. अत: हमें अपने सोच का ध्यान रखना चाहिए. हम जो प्रत्येक कर्म करते हैं और प्रत्येक विचार जिसका हम चिंतन करते हैं, वे सब चित्त पर अपना प्रभाव छोड़ते हैं. प्रत्येक मनुष्य का चरित्र इन सारे प्रभावों के आधार पर तय होता है. यदि प्रभाव अच्छे हों तो चरित्र अच्छा होता है और यदि ये प्रभाव खराब हों, तो चरित्र बुरा होता है. चरित्र निर्माण की इस प्रक्रिया से जहां यह निर्धारित होता है कि कोई व्यक्ति आगे चलकर कैसा बनेगा, वहीं यह भी तय होता है कि इससे भावी समाज और संसार का निर्माण कैसा होगा.

भारत में महिलाओं को देवी का दर्जा दिया जाता है. वैसे तो प्रकृति ने स्त्री के भीतर कोमलता, सौम्यता और ममत्व के भाव कूट-कूटकर भरे हैं और अधिकतर महिलाओं में ये भावना होती भी है. लेकिन जिस तरह हाथों की पांचों अंगुलियां बराबर नहीं होतीं, ज़रूरी नहीं कि हर स्त्री भी ऐसी ही हो. महिलाओं के सिर पर जन्म से ही ये जिम्मेदारी सौंप दी जाती है कि परिवार की इज्ज़त पर कभी आंच नहीं आनी चाहिए. जिस तरह महिलाएं कुल की लाज बचाने का काम करती हैं, अपने नैतिक और सामाजिक आचरण को पवित्र रखती हैं वहीं कुछ स्त्रियां ऐसी भी होती हैं जिनके कर्म कुल के विनाश का कारण बनते हैं. ऐसी स्त्रियों को सामाजिक भाषा में कुलक्षिणी कहा जाता है. स्त्री के चेहरे और उसके शरीर पर कुछ ऐसे लक्षण होते हैं जो उसे लक्ष्मी का स्वरूप नहीं बल्कि कुलक्ष्मी करार देते हैं. आज हम ऐसी ही स्त्रियों के बारे में बात करेंगे.

यदि किसी महिला की कनिष्‍ठ उंगली या उसके साथ वाली उंगली जमीन को नहीं छूती या फिर अंगूठे के साथ वाली उंगली बहुत ज्‍यादा लंबी है, तो ऐसी महिलाएं समय अनुसार खुद को बदल लेती हैं.

यदि किसी स्त्री को बात-बात पर गुस्सा आता है या उसका स्वभाव गुस्से वाला है, तो उसके चरित्र पर विश्वास नहीं किया जा सकता.

जिन महिलाओं के पैर के पीछे का हिस्सा काफी मोटा और उठा हुआ होता है और उस भाग की नसें उभरी हुई होती हैं, तो ऐसी महिलाओं से दूरी बनाकर रखें. यह घर के लिए शुभ नहीं मानी जाती.

घड़े के आकार की पेट वाली महिला का पूरा उम्र गरीबी और दरिद्रता में गुज़रता है. यदि महिला का पेट अधिक लंबा और गड्ढेदार है, तो यह अशुभता की निशानी है.

यदि किसी महिला का कद लंबा है और उसके होंठो के ऊपरी हिस्‍से पर अधिक बाल हैं, तो ऐसी महिला पति के लिए अशुभ मानी जाती है.

कानों में अत्यधिक बाल वाली स्त्रियां घर में लड़ाई-झगड़े की वजह बनती हैं.

मोटे और चौड़े दांत वाली महिला जिसके दांत मुंह से बाहर निकलते हुए नज़र आते हैं, तो वह महिला ताउम्र दुखी और परेशान रहती है. महिला के मसूड़ों का काला होना भी दुर्भाग्य की निशानी माना जाता है.

जिस महिला के हाथों की नसों में उभार आता हो और हथेलियां चपटी हों, तो ऐसी महिला को सुख और धन नसीब नहीं होता.

छोटी गर्दन वाली महिला अपने निर्णय के लिए दूसरों पर निर्भर रहती हैं. चार अंगुलियों से ज़्यादा लंबी गर्दन होने पर महिला अपने ही वंश का विनाश कर बैठती हैं.

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.