सिर्फ एक रात शरीर के इस अंग पर बांध ले केले का छिलका, जीवन में होगे ऐसे कमाल के फायदे जिसे कभी सोचे नही होगे…

0

केला तो हम सभी खाते ही हैं, ये बहुत ही स्वादिष्ट फल होता है साथ ही यह ऊर्जा से भी भरपूर होता है, शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जो केले को पसंद न करता हो, इसे खाने से कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं, खासतौर पर जो लोग दुबले पतले हैं उनके लिए केला सेहत बनाने का सबसे अच्छा उपाय है, इसके अलावा भी केला काफी ज्यादा फायदेमंद होता है।

केले में विटामिन B6 और कई सारे मिनरल्स होते हैं, जितना साधारण ये फल लगता है उससे भी कहीं ज्यादा लाभदायक होता है ये, न सिर्फ केला बल्कि उसका छिलका भी बहुत काम का होता है, ये चेहरे पर मुंहासे आदि हो जाते हैं तो हफ्ते में तीन बार अपने चेहरे पर केले के छिलके को हल्के हाथों पर रगड़े, इससे कुछ ही दिनों में मुंहासे खत्म हो जाते हैं।

केले का छिलका स्किन कॉर्न्स को ठीक करने में भी मदद करता है, हमारे पूरे शरीर का भार पैरों पर होता है, इसलिए एड़ियों और तलवों की त्वचा सख्त हो जाती है, कभी कभी तो त्वचा इतनी सख्त हो जाती है कि उनमे गड्ढा बनने लगता है और दर्द होने लगता है।

ऐसे में केले के छिलकों को अपने इस स्थान पर लगाकर टेप से चिपका लें और उसके ऊपर से मोजें पहन लें और रात भर के लिए छोड़ दें कुछ दिनों तक ऐसा करने से आपकी इस स्थान त्वचा मुलायम हो जाएगी और दर्द भी खत्म हो जायेगा।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.