कभी नहीं आएगा बुढ़ापा अगर रोजाना खाएगे बस यह एक चीज, जवानी हमेशा रहेगी कायम

0

आजकल खाने के ज़ायके को बढ़ाने के लिए लोग मक्खन का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन मक्खन हमारे स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है.

अगर आप रोज़ाना खाने में घी का इस्तेमाल करते हैं तो इससे न सिर्फ आपका खाना ज़ायकेदार होगा बल्कि इससे आपके शरीर का एनर्जी लेवल भी बढ़ेगा.

घी मे मौजूद पोषक तत्व मानसिक और शारीरिक सेहत के लिए फायदेमंद है.

तो आइए आपको बताते हैं घी के फायदे, जो आपकी जवानी को बरकरार रखने में आपकी मदद कर सकते हैं.

घी के फायदे –

  • पोषक तत्वों से है भरपूर

घी में शॉर्ट चेन फैटी एसिड होते हैं, जिसे पचाना बेहद आसाना होता है और ये हमारे हार्मोन्स के लिए भी फायदेमंद होते हैं. घी में विटामिन ए, डी, कैल्शियम, फॉस्फोरस, मिनरल्स, पोटैशियम जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो आपको ज्यादा समय तक जवान बनाए रखते हैं.

  • युवावस्था रखे कायम

एक ग्लास दूध में एक चम्मच गाय का देसी घी और मिश्री मिलाकर पीने से शारीरिक और मानसिक कमज़ोरी दूर होती है. गर्भवती महिला के घी खाने से उसका बच्चा मज़बूत और बुद्धिमान बनता है. इतना ही नहीं काली गाय का घी खाने से बूढ़ा इंसान भी जवान नज़र आने लगता है.

  • वजन करता है कंट्रोल

घी में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाया जाता है. जो शरीर के वजन को नियंत्रित रखने में मदद करता है. शरीर का वजन नियंत्रित हो तो किसी तरह की बीमारी कि चिंता भी नहीं सताती.

  • आंखों के लिए है फायदेमंद

अगर कोई आंखों की किसी समस्या से पीड़ित है तो उसे एक चम्मच गाय के घी में एक चौथाई काली मिर्च मिलाकर सुबह खाली पेट व रात को सोते समय खाना चाहिए. इसके बाद एक ग्लास ग्रम दूध पीना चाहिए.

  • कैंसर से लड़ने में करता है मदद 

खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ ही गाय के घी में कैंसर से लड़ने के विशेष गुण पाए जाते हैं. यह कैंसर की गांठ को बढ़ने से रोकता है. इसके रोज़ाना सेवन से कैंसर होने की संभावना बहुत कम हो जाती है.

  • थकान और कमजोरी होती है दूर

शरीर में कमज़ोरी या थकान महसूस होने पर एक ग्लास गुनगुने दूध में गाय का घी मिलाकर पीने से थकान और कमज़ोरी बहुत जल्दी दूर हो जाती है. घी के उपयोग से मांसपेशियां और हड्डियां मज़बूत होती है.

  • कॉलेस्ट्रॉल को करता है कम

लगातार घी खाने से खून और आंतों में मौजूद कॉलेस्ट्रॉल कम होने लगता है. देसी घी शरीर में बैड कॉलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करता है और गुड कॉलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करता है.

  • पाचन क्रिया होती है ठीक

घी पेट के एसिड्स के बहाव को बढ़ाने का काम करता है. जिससे पाचन क्रिया ठीक होती है. देशी घी शरीर में जमा फैट को गलाकर विटामिन में बदलने का काम करता है. खाने में देशी घी मिलाकर खाने से खाना जल्दी डाइजेस्ट होता है और मेटाबॉल्जिम की प्रक्रिया को बढ़ाता है.

  • दिल के लिए लाभदायक

गाय का घी दिल समेत कई बीमारियों को दूर भगाने में मदद करता है. जिस शख्स को हार्ट अटैक की तकलीफ है और चिकनाई खाने को मनाही है, उसे गाय का घी खाना चाहिए, इससे दिल मज़बूत होता है.

  • एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर है घी

गाय के घी में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है, जो फ्री रेडिक्ल से लड़ता है और चेहरे की चमक को बरकरार रखता है. घी त्वचा को मुलायम बनाता है और उसे नमी प्रदान करता है. देशी घी से चेहरे पर मसाज करने से निखार बढ़ता है.

ये थे घी के फायदे – गौरतलब है कि घी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ती है, जिससे इंफेक्शन और बीमारियों से लड़ने की ताकत मिलती है. ज़ाहिर है कि एक निरोगी और स्वस्थ इंसान जल्दी बूढ़ा नहीं होता है.

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.