मार्च के इस महीने में हैं घूमने का प्लान तो, पार्टनर संग इन जगहों की करें सैर

0

सर्दी धीरे-धीरे जा रही है और वसंत का आगमन हो रहा है। ऐसे मौसम में भला बिना घूमे-फिरे, बिना ट्रिप प्लान करे कैसे रहा जाए? अगर आपके मन में यह ख्याल हिलोरे ले रहा है कि मार्च में कहीं न कहीं घूमने का प्लान बनाया जाए, तो फिर यहां आपके लिए कुछ जगहों के सुझाव दिए जा रहे हैं। इन जगहों के लिए आप अपनी मार्च ट्रिप प्लान कर सकते हैं। खास बात यह है कि इन जगहों पर आप अपने पार्टनर संग भी जा सकते हैं। यहां आपको अपने पार्टनर के साथ काफी क्वॉलिटी टाइम बिताने को मिलेगा।मार्च के इस महीने में हैं घूमने का प्लान तो, पार्टनर संग इन जगहों की करें सैर

दिल्ली
जिस तरह दिल्ली की सर्दी मशहूर है उसी तरह मार्च तक का यहां का मौसम भी काफी मशहूर है। दरअसल फरवरी से मार्च के बीच दिल्ली का मौसम सुहावना रहता है। इस दौरान न तो ज़्यादा सर्दी होती है और न ही गर्मी। इसलिए ऐतिहासिक नगरी के दर्शन के लिए यह समय एकदम अनुकूल है। ऐतिहासिक स्मारकों के अलावा दिल्ली और इसके आसपास कई पिकनिक स्पॉट्स, पब, पार्क्स और रिजॉर्ट्स हैं, जहां आप अपनी छुट्टियों का लुत्फ उठा सकते हैं।

शांतिनिकेतन
यह पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के पास स्थित एक छोटा सा शहर है, जहां वसंत ऋतु का एक अलग ही अंदाज़ में स्वागत किया जाता है। मार्च में यहां का मौसम बड़ा ही सुहावना होता है। पूरे देश में बसंत उत्सव को होली के रूप में मनाया जाता है, लेकिन शांतिनिकेतन में इसका सेलिब्रेशन अनूठा ही होता है। यहां से 3 किलोमीटर की दूरी पर हिरणों का पार्क भी है, जो देखने लायक है।

लेपचाजगत

लेपचाजगत नेचर लवर्स और हनीमून लवर्स के लिए किसी जन्नत से कम नहीं है। यह दार्जलिंग के पास स्थित एक छोटा सा गांव है, जोकि अपने अंदर असीम खूबसूरती समेटे हुए है। इस गांव से कंचनजंगा पहाड़ी का दिलकश नज़ारा भी दिखाई देता है। इस जगह का नाम लेपचाजगत इसलिए पड़ा क्योंकि यहां लेपचा जनजाति के लोग रहते हैं। यहां देवदार और बलूत के पेड़ों से भरे जंगल और वन्य जीव हैं। यहां एक नेचर वॉकिंग ट्रेल भी है यानी प्राकृतिक रूप से बनी एक पगडंडी है जोकि हवा घर तक जाती है। यहां से पहाड़ियों का आकर्षक नज़ारा दिखता है।

कूर्ग

कूर्ग को इंडिया का कॉफी हब कहा जाता है। मार्च और अप्रैल में जब कॉफी के फूल लगते हैं तो यह जगह बेहद खूबसूरत हो जाती है। पहाड़ियों के बीच बसा यह खूबसूरत हरा-भरा जिला आउटडोर एक्टिविटीज के लिए बेहतरीन है। यहां पर आप ट्रैकिंग, फिशिंग और वाइट वॉटर राफ्टिंग का मजा ले सकते हैं। कूर्ग सिर्फ मार्च में ही घूमने के लिए बेस्ट नहीं है, बल्कि आप यहां अक्टूबर से मई तक घूम सकते हैं। यहां चारों ओर हरी-भरी वादियां, चाय के बागान और कॉफी के ढेरों पेड़ हैं। कर्नाटक में स्थित कूर्ग इतना खूबसूरत है कि इसे ‘भारत का स्कॉटलैंड’ भी कहा जाता है।

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/updarpan/public_html/namonamo.in/wp-includes/functions.php on line 5107

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/updarpan/public_html/namonamo.in/wp-includes/functions.php on line 5107