हर तीन में से एक महिला के साथ हर रोज होता ये गंदा काम, सुनकर नही यकीन

0

महिला दिवस महिलाओं का दिन, महिलाएं आगे बढ़ रही हैं, पंख लगाकर उड़ रही हैं, महिला फायटर पाइलट हैं, रक्षामंत्री भी एक महिला है. बावजूद इसके कई लोगों के लिए महिला सिर्फ एक महिला है, जिसे आप नहीं जानते या जानते भी हैं पर सोचते हैं कि उसे बिंदास अश्लील कॉल किए जा सकते हैं. उससे अश्लील बातें की जा सकती हैं, अश्लील मैसेज भेजे जा सकते हैं. क्या ऐसे लोगों के लिए वाकई महिला दिवस कोई मायने रखता है.

एक सर्वे के मुताबिक हमारे देश में हर 3 में से एक महिला को मोबाइल पर अश्लील कॉल और मैसेज आते हैं. ऐसे मैसेज और फोन कॉल का कंटेट sexual होता है. ये सर्वे ट्रूकॉलर ने किया है.

ये सर्वे जिन महिलाओं का किया गया उनमें से 52 फीसदी महिलाओं को कॉल हफ्ते में एक बार आती है. इनमें से 74 फीसदी कॉलर वो होते हैं जिन्हें महिलाएं नहीं जानतीं. 23 फीसदी कॉलर ऐसे होते हैं जो महिलाओं को स्टॉक करते हैं और 11 फीसदी ऐसे होते हैं जो महिलाओं को जानते हैं.

ये लोग यहीं नहीं रुकते, इनकी हिम्मत तब और बढ़ जाती है जब ये महिला की मर्जी के बिना उसे सेक्चुअल कंटेंट भेजकर उसे परेशान करने लगते हैं. क्या आप जानते हैं इस तरह के सबसे ज्यादा मामले किस शहर में देखने को मिलते हैं, दरअसल महिलाओं को इस तरह परेशान करने के मामले सबसे ज्यादा दिल्ली में होते हैं.

 

हाल ही में हुए एक सर्वे में कई महिलाओं से बात की गई. इस सर्वे में पाया गया कि करीब अस्सी फीसदी महिलाओं को सेक्चुअल कंटेंट वाले फोन से काफी गुस्सा और खीज आती है, जबकि 37 फीसदी महिलाएं डर जाती हैं.

सर्वे में ये भी बताया गया कि 74 फीसदी महिलाएं इस तरह के कॉल, मैसेज को रोकने के लिए काफी कोशिशें करती हैं, जिनमें एक कॉल से बचने के लिए नंबर ब्लॉक करती हैं, कुछ सोशल मीडिया पर ऐसे लोगों को जलील भी करती हैं, कुछ महिलाएं DND एक्टिवेशन करती है, और कुछ अथॉरिटीज से ऐसे लोगों की शिकायत भी करती हैं. काफी महिलाएं फोन नंबर आइडेंटीफाई करने वाले एप का सहारा लेती हैं.

सर्वे में 53 फीसदी महिलाओं ने बताया कि उन्हें लगभग रोज फ्रॉड किस्म के लोगों से ऐसी कॉल भी आती है जिसमें उनसे सेंसिटिव इंफॉर्मेशन निकालने की कोशिश की जाती है, ताकि उसका फायदा उठाया जा सके. मोबाइल फोन कॉल या मैसेज के जरिए महिलाओं का Sexual harassment वैसे तो पूरी दुनिया में होता है, लेकिन जब ऐसे मामले भारत जैसे देश में होते हैं जहां नारी को देवी का दर्जा दिया जाता है तो ये बात जरा ज्यादा चुभती है, दुख देती है.

, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल,

Leave A Reply

Your email address will not be published.